Bharat Ke Raksha Vibhag Ki Sabse Badi Dile

यह भी पढ़े : Japan ke liye ja Raha "MV Jag Anand" जहाज "Chaina" में फसा कई, भारतीयों की जान

भारत दुनिया भर से ( Defence ) हथियार आयात करने में पहले है। 

और इसके साथ ही एक समय था जब भारत पूरी दुनिया भर से हथियारों को खरीद करके अपनी पूर्ति करता था लेकिन जब से केंद्र में सरकार बदली है। तब से आत्मनिर्भर अभियान शुरू किया गया है। जिसके तहत भारत अब किसी दूसरे देशों के ऊपर निर्भर नहीं रहना चाहता और यही कारण है। कि भारत अपने स्वदेशी उपकरणों पर ज्यादा ध्यान दे रहा है।

देश अब रक्षा के क्षेत्र में भी एक प्रकार से आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ने लगा है। और ( Chaina & Pakistan )चीन और पाकिस्तान जैसे देशों से लड़ने के लिए भी यह परम आवश्यक हैं।, क्योंकि, चीन और पाकिस्तान की नापाक सोच को ध्वस्त करने हेतू के लिए भारत ने एक और कामयाबी हासिल कर ली है।

अब भारत के दुश्मनों की खैर नहीं भारत पर हमला करने से पहले उनको 100 बार सोचना पड़ेगा क्योंकि अब भारत ने इस प्रकार की सिद्धि प्राप्त कर ली है। जिस कारण वर्ष दुनिया की कोई ऐसी शक्ति नहीं जो भारत को हरा सके चाहे वह हवाई आसमान हो, या फिर थल और या फिर समुद्र का कोई भी इलाका भारत अब मुंह तोड़ तरीके से जवाब देने में सक्षम हो चुका है।

भारत ने अब हवाई सीमाओं पर अपने लड़ाकू विमानों को स्थापित कर दिया है। जिस कारण वर्ष किसी भी प्रकार की परिस्थिति आने पर तुरंत एक्शन ले लिया जा सके और हवाई सीमाओं पर चौकसी के लिए भारत ने अब स्वदेशी लड़ाकू विमान मंडराने लगेगी और एक ही झटके में दुश्मन पर इस प्रकार से प्रहार करेंगे कि कहर बनकर टूट पड़ेंगे।

आपको याद ही होगा कि कुछ ही महीनों पहले France से आए ( Dassault Rafale ) लड़ाकू विमानों की थ जोरदार तरीके से भारत में Entry हुई थी। और यही कारण है कि भारत में अत्याधुनिक लड़ाकू Dassault Rafale विमान को ( Indian Air Force ) में शामिल करने के बाद अब दुनिया के सबसे हल्के माने जाने वाले स्वदेशी विमान Tejas को भी ( Air Force ) के बेड़े में शामिल किया जा रहा है। 

भारत के सुरक्षा मामलो वाली कैबिनेट की समिति ने बुधवार को Air Force ने 83 हल्के Tejas fighter plain को शामिल करने का रास्ता साफ कर दिया है। आपको बता दें कि भारत में फाइटर प्लेन बनाने वाली कंपनी ( Hindustan Aeronautics Limited ) हिंदुस्तान एयरोनॉटिकल लिमिटेड के द्वारा इस प्रकार के बनाए गए प्लेन के लिए 48000 हज़ार करोडं रुपयों की डिल फाइनल कर दी गई है।

आपको बता दें कि इस प्रकार की अब तक कि सबसे बड़ी स्वदेशी रक्षा डील है। यहां पर आपको बता दें कि पिछले साल ही मार्च में Defense Execution Council ने 83 Advanced Mark एवं वर्जन इस प्रकार की तेजस विमानों की खरीद की बात कर दी थीं।

आपको बता दें कि औपचारिक रूप से PM Modi की अध्यक्षता वाली सीसीएस ने इस डील को फाइनल भी कर दिया है। और यहां तक कि Defiance Minister Rajnath Singh ने भी Twette कर इस बात की जानकारी दे दी है। रक्षा मंत्री जी ने ट्वीट कर कहा पीएम मोदी की अध्यक्षता वाली सीसीएस ने इस डील को अनुमोदित कर दिया है।

यह आपको बता दें कि भारत में राफेल के आने के बाद अब तेजस की भी एंट्री हो गई है। इससे भारत की रक्षा के लिए और भी मजबूती मिलेगी और भारत के रक्षा बेडेमे इस प्रकार से राफेल और तेजस की एंट्री के बाद Chaina और Pakistan के लिए मुश्किल होगी भारत से लड़ने के लिए

अयिए अब इसकी महत्वता के बारे में बात करते हैं। Tejas 2000 222 Kilometres प्रति घंटे की रफ्तार से उड़ने में सक्षम हैं। और यहां 3 हजार Kilometres की दूरी तक एक बार में ही उड़ने में पूरी तरीके से सक्षम है। और इसी के साथ हनी कही है खुफिया इसके अंदर है तो आपकी इस के बारे में क्या राय है आप कमेंट करिए लाइक शेयर भी करें

Post a Comment

Comments

और नया पुराने