India ने बनाया border की सुरक्षा के लिए घातक हल्के लड़ाकू हेलिकॉप्टर, ये ख़बर सुनतेही Chaina को लगा सदमा.

India ने बनाया border की सुरक्षा के लिए घातक हल्के लड़ाकू हेलिकॉप्टर, ये ख़बर सुनतेही Chaina को लगा सदमा

Amul Shetkar

• भारतीय वायुसेना में शामिल होने जा रहा है। घातक हेलिकॉप्टर

• इन हेलीकॉप्टरों के माध्यम से रखी जायेगी देश के दुश्मनों पर नजर

• अब भारतीय वायुसेना होने जा रही है भी तकतवार

भविष्य में भारत के पास घातक हेलिकॉप्टर

भविष्य में चीन के साथ युद्ध की परिस्थितियों से लड़ने के लिए भारत ने अपने आत्मनिर्भरता के तहत हेलीकॉप्टर्स बनाना शुरू कर दिया है।हथियार और सुरक्षा के मामले में भारत कि अपने आत्मनिर्भरता बढ़ती जा रही है। और भारत ने अपनी सीमा की सुरक्षा के लिए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर बनाए हैं। अपने देश में बनाए गए हेलीकॉप्टर को सीमा पर तैनात किया जा रहा है। हेलीकॉप्टरों को 3 अक्टूबर को राजस्थान के जोधपुर में तैनात किया जा रहा है। और यह हेलीकॉप्टर सिर्फ एयर वर ( Air War ) में ही केपेबल है। भविष्य मे किसी भी युद्ध की परिस्थिति के दौरान धीमी गति से चलने वाले विमानों ड्रॉन्स और बख्तरबंद गाड़ियों को ध्वस्थ भी कर सकता है। 

LAC पर भारत का चौकीदार

इसे हेलीकॉप्टर में दो पायलट आराम से बैठ सकते हैं। और यहां तक कि इस हेलीकॉप्टर की शानदार डिजाइन और घातक हथियारों से लैस यह मेड इन इंडिया हेलीकॉप्टर है। हल्के वजन की वजह से नाम है। ( LCH ) यानी लाइट कॉम्बेक्ट हेलीकॉप्टर 3 अक्टूबर से हेलीकॉप्टर का पहला क्वार्टन देश की सुरक्षा के लिए तैनात हो जाएगा, इन हेलीकॉप्टरों के पायलेट्स की जिम्मेदारी पाकिस्तान के साजिशों को नाकाम करने की होगी। 

भारतीय वायु सेना ( Indian Air Force ) में भी शामिल होंगे घातक हेलिकॉप्टर

भारतीय वायु सेना ( Indian Air Force ) देश की पश्चिमी सीमा को और भी सुरक्षित करने के लिए इन हेलीकॉप्टरों की तैनाती कर रही है। इन हेलीकॉप्टरों से पूरे इलाकों की निगरानी की जाएगी ताकि आतंकी और घुसपैठियों को पकड़ा जा सके। इन लाइट्स कंपैक्ट हेलीकॉप्टरों ( LCH ) का प्रयोग स्पेशल ऑपरेशन के दौरान भी किया जा सकेगा। यह हेलीकॉप्टर्स पाकिस्तान के ड्रोन को भी हवा में मारने में भी सक्षम है। सर्च और रेस्क्यू के समय भी इसका प्रयोग होगा। 

जाने इस हेलिकॉप्टर की ताकत

मोदी सरकार ने LCH खरीदने के लिए 3,887 करोड़ का फंड मंजूर किया है। मार्च में LCH एलसीएच खरीदने के लिए 377 फंड जारी किया गया। वायुसेना को 10 और भारतीय थल सेना को 5 हेलीकॉप्टर मिलेंगे। जून 2022 में बंगलुरु में LCH हेलीकॉप्टर का पहला क्वार्टर शुरू हो चुका है। सेना का प्लान पंचानवे और हेलीकॉप्टर खरीदने का है। इन हेलीकॉप्टर रुको 7 यूनिट में 7 अलग-अलग पहाड़ी इलाकों में तैनात किया जाएगा लाइट कंपैक्ट हेलीकॉप्टरों को हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड ने बनाया है। LCH में 2 पायलट बैठ सकते हैं हेलीकॉप्टर्स 51.10 फीट लंबा है। 15:5 फीट ऊंचा है। वजन 5800सौ kg है। स्पीड 268 km/h kilometre प्रति घंटा LCH में रॉकेट मिसाइल और बम्स लग सकते हैं। और यहां तक कि इसे और भी अपग्रेड भी किया जा सकता है। HAL ने जब हेलीकॉप्टरों को अपग्रेड करके बनाया है। और इस प्रकार के हेलीकॉप्टरों की आवश्यकता कारगिल युद्ध के दौरान महसूस की गई थी। HAL हेलीकॉप्टर ऊंचे पहाड़ों के ऊपर भी टेक ऑफ कर सकती है। इसलिए इनकी तैनाती LOC पर भी की जाएगी। यह हेलीकॉप्टर पुराने MI  35 और  MI 25 हेलीकॉप्टरों की रिप्लेस करेंगे। किसी भी प्रकार की युद्ध की हालात के समय भारत के पास पहले से ही अपाचे और चिनुक जैसे ताकतवर हेलीकॉप्टर मौजूद है।


यह रिपोर्ट आपको कैसी लगी Comment कर बताए


Post a Comment

Previous Post Next Post